नाटक गुजरात के मुहाजिर | Gujarat Ke Muhajir

06.30 PM - 08.00 PM

Conflictorium
Gool Lodge Opposite R.C High School of Commerce, Delhi Chakla, Ah

With Tickets.

2019-04-21 18:30:00 2019-04-21 20:00:00 Asia/Kolkata नाटक गुजरात के मुहाजिर | Gujarat Ke Muhajir

नाटक गुजरात के मुहाजिर

२००२ गुजरात के जनसंहार के कारण मुसलमानों को मजबूरन अपनी मूल जगह छोडनी पड़ी और उन्हें आन्तरिक विस्थापित कहा गया. गुजरात के मुहाजिर नाटक, विस्थापितों के सवाल को और विस्थापन के बाद के जीवन की जद्दोजहेद को दर्शाता है. एवं सरकार, नागरिक समाज और अपने ही समुदाय के साथ विस्थापितों के खड़े हो रहे सवालो को उठाता है. अत्याचार, भेदभाव, हिंसा के इतिहास को जी रहें मुसलमान के जीवन के मूल सवालों केसाथ सामाजिक परिद्वेश्य और मौजूदा हालत को उजागर करता नाटक अंत में एक गंभीर सवाल खड़ा करता है.

People from the Muslim community were forced to leave their homes after the 2002 riots in Gujarat and were labelled as the internally displaced. The play Muhajir raises questions of displacement and the struggles of life thereafter. It asks poignant questions to the government, civil society as well as the community itself of the predicament of those displaced.

 

Source : Facebook.

Conflictorium
Gool Lodge Opposite R.C High School of Commerce, Delhi Chakla, Ah

Creativeyatra.com info@creativeyatra.com

नाटक गुजरात के मुहाजिर

२००२ गुजरात के जनसंहार के कारण मुसलमानों को मजबूरन अपनी मूल जगह छोडनी पड़ी और उन्हें आन्तरिक विस्थापित कहा गया. गुजरात के मुहाजिर नाटक, विस्थापितों के सवाल को और विस्थापन के बाद के जीवन की जद्दोजहेद को दर्शाता है. एवं सरकार, नागरिक समाज और अपने ही समुदाय के साथ विस्थापितों के खड़े हो रहे सवालो को उठाता है. अत्याचार, भेदभाव, हिंसा के इतिहास को जी रहें मुसलमान के जीवन के मूल सवालों केसाथ सामाजिक परिद्वेश्य और मौजूदा हालत को उजागर करता नाटक अंत में एक गंभीर सवाल खड़ा करता है.

People from the Muslim community were forced to leave their homes after the 2002 riots in Gujarat and were labelled as the internally displaced. The play Muhajir raises questions of displacement and the struggles of life thereafter. It asks poignant questions to the government, civil society as well as the community itself of the predicament of those displaced.

 

Source : Facebook.




promotional