Hun Bolu, Tu Sambhad – Vaishakh Rathod

09.00 PM - 10.00 PM

Ouroboros Art Hub "Blackbox Theatre"
203, Sheetalvarsha complex, oppo. PC jwellers, Shivranjani cross roads, Ahmedabad, India 380015

Tickets online or call 07926760044

2019-06-13 21:00:00 2019-06-13 22:00:00 Asia/Kolkata Hun Bolu, Tu Sambhad - Vaishakh Rathod

An evening which is filled with poetry, and that too of the masters !
Ouroboros and Matrubharti present: “હું બોલું, તું સાંભળ”,
In the session three of this event, Vaishakh would recite his ‘hindustani’ poems.
.
वैशाख
कवि, नाट्यकार, एक्टर, शिक्षक,
वैशाख गुजरात के अहमदाबाद के निवासी हैं। उन्होंने अंग्रेजी विषय के साथ एम्,ए, एम् ,एड तक की पढाई की हैं। अब वह अहमदाबाद की स्कूल्स और कोलेज में शिक्षक के नाते पढ़ाने जाते हैं। इस के अलावा वैशाख गुजराती,और हिन्दुस्तानी भाषा में कविताएँ, कहानियाँ, नवलकथा और नाटक लिखते हैं। उनकी “बुधन के गीत” और “सरनेम” नाम से दो किताब साया(पब्लिश) हो चुकी हैं, “सरनेम” को “ली टो फेस्ट” में राष्ट्रीय कक्षा का पुरस्कार भी मील चुका हैं। इन्होंने गुजरती और हिंदी फीचर फिल्म्स शार्ट फिल्म्स की स्क्रिप्ट एवं गाने भी लिखे हैं। इनके लिखे नाटक अलग अलग जगहों पर मंचित और चर्चित रहें हैं और “आई एन टी”, और “चित्रलेखा” जैसी नेशनल लेवल की कॉम्पीटीशन में विविध पारितोषिक से विजेता भी हुए हैं। इनकी कविताएँ बांगला, अंग्रेजी और मराठी में अनुवाद हुइ है,और देश विदेश की एवं साहित्य अकादमी दिल्ही की पत्रिकाओं में प्रकाशित भी हुई हैं। कुछ कविताओं पर से शोर्ट फिल्म्स बन चुकी है। कुछ कविताएं ‘सेंट्रल युनिवर्सिटी’ गांधीनगर के सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट के सिलेबस में भी ली गई है।
.

Source: Facebook.

Ouroboros Art Hub "Blackbox Theatre"
203, Sheetalvarsha complex, oppo. PC jwellers, Shivranjani cross roads, Ahmedabad, India 380015

Creativeyatra.com info@creativeyatra.com

An evening which is filled with poetry, and that too of the masters !
Ouroboros and Matrubharti present: “હું બોલું, તું સાંભળ”,
In the session three of this event, Vaishakh would recite his ‘hindustani’ poems.
.
वैशाख
कवि, नाट्यकार, एक्टर, शिक्षक,
वैशाख गुजरात के अहमदाबाद के निवासी हैं। उन्होंने अंग्रेजी विषय के साथ एम्,ए, एम् ,एड तक की पढाई की हैं। अब वह अहमदाबाद की स्कूल्स और कोलेज में शिक्षक के नाते पढ़ाने जाते हैं। इस के अलावा वैशाख गुजराती,और हिन्दुस्तानी भाषा में कविताएँ, कहानियाँ, नवलकथा और नाटक लिखते हैं। उनकी “बुधन के गीत” और “सरनेम” नाम से दो किताब साया(पब्लिश) हो चुकी हैं, “सरनेम” को “ली टो फेस्ट” में राष्ट्रीय कक्षा का पुरस्कार भी मील चुका हैं। इन्होंने गुजरती और हिंदी फीचर फिल्म्स शार्ट फिल्म्स की स्क्रिप्ट एवं गाने भी लिखे हैं। इनके लिखे नाटक अलग अलग जगहों पर मंचित और चर्चित रहें हैं और “आई एन टी”, और “चित्रलेखा” जैसी नेशनल लेवल की कॉम्पीटीशन में विविध पारितोषिक से विजेता भी हुए हैं। इनकी कविताएँ बांगला, अंग्रेजी और मराठी में अनुवाद हुइ है,और देश विदेश की एवं साहित्य अकादमी दिल्ही की पत्रिकाओं में प्रकाशित भी हुई हैं। कुछ कविताओं पर से शोर्ट फिल्म्स बन चुकी है। कुछ कविताएं ‘सेंट्रल युनिवर्सिटी’ गांधीनगर के सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट के सिलेबस में भी ली गई है।
.

Source: Facebook.




promotional