Chintan Pandya’s Rashmirathee (Dramatic Reading)

07.00 AM - 08.45 AM

B. K. School of Professional and Management Studies, Ahmedabad
gujarat university, Ahmedabad, India 380009.

With Tickets.

2019-02-16 07:00:00 2019-02-16 08:45:00 Asia/Kolkata Chintan Pandya's Rashmirathee (Dramatic Reading)

रश्मिरथी, जिसका अर्थ “किरणों के रथ पर सवार” है, हिन्दी के महान कवि रामधारी सिंह दिनकर द्वारा रचित प्रसिद्ध खण्डकाव्य है। यह 1952 में प्रकाशित हुआ था। इसमें कुल 7 सर्ग हैं, जिसमे कर्ण के चरित्र के सभी पक्षों का सजीव चित्रण किया गया है। रश्मिरथी में दिनकर ने कर्ण की महाभारतीय कथानक से ऊपर उठाकर उसे नैतिकता और वफादारी की नयी भूमि पर खड़ा कर उसे गौरव से विभूषित कर दिया है। रश्मिरथी में दिनकर ने सारे सामाजिक और पारिवारिक संबंधों को नए सिरे से जाँचा है। चाहे गुरु-शिष्य संबंधें के बहाने हो, चाहे अविवाहित मातृत्व और विवाहित मातृत्व के बहाने हो, चाहे धर्म के बहाने हो, चाहे छल-प्रपंच के बहाने।

युद्ध में भी मनुष्य के ऊँचे गुणों की पहचान के प्रति ललक का काव्य है ‘रश्मिरथी’। ‘रश्मिरथी’ यह भी संदेश देता है कि जन्म-अवैधता से कर्म की वैधता नष्ट नहीं होती। अपने कर्मों से मनुष्य मृत्यु-पूर्व जन्म में ही एक और जन्म ले लेता है। अंततः मूल्यांकन योग्य मनुष्य का मूल्यांकन उसके वंश से नहीं, उसके आचरण और कर्म से ही किया जाना न्यायसंगत है।

Rashmirathee, meaning the one who rides the chariot of light-rays, is Ramdhari Singh Dinkar’s epic on the Mahabharat’s very intriguing character – Karna. It describes the various incidents of Karna’s life from Karna’s perspective which find its resonance and relevance in today’s time where the society discriminates on the grounds of religion, cast, creed, etc. and it shows us how Karna led a heroic life despite all odds, including the fate of facing Krishna, the God, against him in the battlefield.

Source: Facebook

B. K. School of Professional and Management Studies, Ahmedabad
gujarat university, Ahmedabad, India 380009.

Creativeyatra.com info@creativeyatra.com

रश्मिरथी, जिसका अर्थ “किरणों के रथ पर सवार” है, हिन्दी के महान कवि रामधारी सिंह दिनकर द्वारा रचित प्रसिद्ध खण्डकाव्य है। यह 1952 में प्रकाशित हुआ था। इसमें कुल 7 सर्ग हैं, जिसमे कर्ण के चरित्र के सभी पक्षों का सजीव चित्रण किया गया है। रश्मिरथी में दिनकर ने कर्ण की महाभारतीय कथानक से ऊपर उठाकर उसे नैतिकता और वफादारी की नयी भूमि पर खड़ा कर उसे गौरव से विभूषित कर दिया है। रश्मिरथी में दिनकर ने सारे सामाजिक और पारिवारिक संबंधों को नए सिरे से जाँचा है। चाहे गुरु-शिष्य संबंधें के बहाने हो, चाहे अविवाहित मातृत्व और विवाहित मातृत्व के बहाने हो, चाहे धर्म के बहाने हो, चाहे छल-प्रपंच के बहाने।

युद्ध में भी मनुष्य के ऊँचे गुणों की पहचान के प्रति ललक का काव्य है ‘रश्मिरथी’। ‘रश्मिरथी’ यह भी संदेश देता है कि जन्म-अवैधता से कर्म की वैधता नष्ट नहीं होती। अपने कर्मों से मनुष्य मृत्यु-पूर्व जन्म में ही एक और जन्म ले लेता है। अंततः मूल्यांकन योग्य मनुष्य का मूल्यांकन उसके वंश से नहीं, उसके आचरण और कर्म से ही किया जाना न्यायसंगत है।

Rashmirathee, meaning the one who rides the chariot of light-rays, is Ramdhari Singh Dinkar’s epic on the Mahabharat’s very intriguing character – Karna. It describes the various incidents of Karna’s life from Karna’s perspective which find its resonance and relevance in today’s time where the society discriminates on the grounds of religion, cast, creed, etc. and it shows us how Karna led a heroic life despite all odds, including the fate of facing Krishna, the God, against him in the battlefield.

Source: Facebook




promotional