Bahubali's letter to the Indian Film Industry

मेरे प्रिय भारतीय फिल्म जगत के मित्रो,

 

मै आ गया हु ! मुझसे डरे नहीं, मै तो आपकी सुरक्षा केलिए ही आया हु !

कई लोग बोल रहे थे के सिनेमा पैसे कमाने का माध्यम है – शायद हो सकता है , पर जो मुझे सही नहीं लगा वो यह मान लेना की सिनेमा एक फार्मुला है ! फार्मूला विज्ञान में होता  है, कई हद तक आर्थिक क्षेत्र में होता है , पर कला अगर फार्मूला बनना चाहे तो नतीजा एक आइटम सॉन्ग ही बन के रह जायेगा।  और ये आप लोग ने भली भाती साबित कर दिया है।

मै तो सिर्फ इतना याद दिलाने आया हु की – सिनेमा कल्पना का फल है और अपनी कल्पना की और हिमालयी प्रतिबद्धता रखना ही, फिल्म निर्माण करता का एक मात्र गुण है।

ऐसा तो नहीं था की मुझे आप पहले नहीं जानते थे ? चित्र कथाओ में, दादीमाँ की कहानिओ में  अरे यहाँ तक के आपके टेलीविज़न माध्यम में भी, मेरी जैसी कहानिया आपने देखी ही है … अफ़सोस के आप फिर भी मुझतक नहीं पहोच पाए।  ऐसा क्यों हुआ इस पर  ज़रा सोच – विचार ज़रूर करे।

देखिए आप सबसे पैसे तो मैंने ज़्यादा कमाए ही, पर लोगो के जीवन में मै जो जगह बना पाया वो ही मेरी सिद्धि है।  अरे आप जिनको पूजते हो – वह पश्चिमी तकनीक को मैंने भी अपनाया – पर आपसे अलग वह किया – की उनकी तकनीक इस्तेमाल कर बात मै अपनी कह गया।  यह बात पूरी तरह समझने केलिए आप थोड़ा मनोमंथन ज़रूर करे।

आपने मेरी कहानी में भल्लाल देव का अंत तो देख ही लिया, बस ध्यान रहे ऐसा अंत आपका न हो !

फिल्म निर्माण क्षेत्र में पूजनीय दादासाहेब फाल्के से लेके अभी तक, कई निर्माताओने अपनी लगन, ज़ेहमत और श्रद्धापूर्ण तरीको द्वारा रचनात्मकता केलिए अपनी द्रढ वफ़ादारी के उत्तम उदहारण दिए है।  इन्ही उदाहरणो को आप ‘कटप्पा’ और मै मामा कहके बुलाता हु। यही तो है मेरी शक्ति और कौशल का स्रोत।

मेरे बाहु में आपको आगे ले जाने की शक्ति तो है ही , साथ-साथ  मेरे ह्रदय में आपको सिखाने और समझाने  की करुणा भी स्थापित है।

इस बात को अभी यहाँ रोकते है , पर निचे जारी निर्देश का ध्यान रहे –

मेरा वचन ही है शासन 

 

आपका और सबका,

 

बाहुबली

महिष्मति राज

पो. बो.  : राजामौली

२८ अप्रैल २०१७

 

Check what various key people associated with the Film Industry have to say about the impact of Bahubali 2.

The letter is an imaginative piece written to express the impact and significance of Bahubali 2 on the Indian Film Industry. For entertainment purpose only.

promotional

Yatra Archives

https://creativeyatra.com/wp-content/uploads/2016/05/Untitled-1-Copy.jpg 159 year old library in Ahmedabad

Lal Darwaja, the biggest hub for hawkers and patrons, where people flock as if everything is been sold free of cost. It can also be named as the commercial capital of Ahmedabad because it was historically one of the first…

https://creativeyatra.com/wp-content/uploads/2016/06/02.jpg Fernandes Bridge : a unique book market of Ahmedabad !

Fernandes Bridge, the street is connecting readers with writers, students with publishers and curios beings with answers since decades. The Chopda Bazaar of Fernandes Bridge is one of the oldest Book Market in Ahmedabad Gujarat that serves thousands of people flocking…

https://creativeyatra.com/wp-content/uploads/2016/04/library.skecth-001-e1460358412631.jpg One of the oldest library of Ahmedabad – A discovery

The oldest library of Ahmedabad, Hazrat Pir Mohammad Shah Library, is blessed with quietness of the mosque that surrounds it. Ahmedabad has internationally carved its identity on the globe through the numerous mosques dotted across the city. The air confined…

https://creativeyatra.com/wp-content/uploads/2015/12/kochrab-ashram3-2.jpg Gandhi’s first Ashram in Ahmedabad

There’s an interesting story behind Ashram Road of Ahmedabad getting its name. It is said that Ashram road is the road that connects the two ashrams of Mahatma Gandhi, Kochrab Ashram and Sabarmati Ashram. While Sabarmati Ashram is more popular nowadays,…